Loading...
Disease Care

डेंगू बुखार के लक्षण व उपचार

डेंगू बुखार का फिलहाल देश मे कहर छाया हुआ है रोज डेंगू बुखार के कारण देश मे बहुत सी मौते हो रही है डेंगू बुखार एक तरह के मच्छर के काटने से होता है। यह मच्छर बरसात के बाद रुके हुए पानी मे होता है यह मच्छर तेजी से पनपता है इसलिए बारिश के बाद अपने घर के आस पास बरसात का पानी जमा ना होने दे। और अगर कही पानी जमा होता हो यानी के जहाँ से पानी की निकासी न हो वहाँ पर कीटनाशक दवा या मिट्टी के तेल का छिड़काव करे। इससे वहाँ पर डेंगू मच्छर पैदा नहीँ होगा…

Loading...
Loading...

डेंगू के लक्षण 

loading...

डेंगू बुखार के लक्षण आम बुखार से अलग होते है। बुखार शुरुआत मे बहुत तेजी से होता है और मरीज को चक्कर आना कमजोरी होना आम बात है। रोगी को अचानक सर्दी लग कर बहुत तेज बुखार होता है शरीर मे तेज दर्द, हड्डियोँ मेँ भी तेज दर्द होता है शरीर का तापमान 102°-106° सेंटीग्रेड तक पहुंचा पहुंच सकता है

डेंगू बुखार की अवस्था मेँ मरीजोँ को भूख नहीँ लगती, व उसके चेहरे पर लाल लाल दाने निकल आते है। डेंगू होने पर शरीर के अंदरुनी अंगो से रक्त स्त्राव हो सकता है जिससे मरीज बेहोशी की हालत मै चला जाता है। डेंगू बुखार के और भी लक्षण है जैसे लगातार चिल्लाना, ज्यादा प्यास, या मुँह का बार बार सुखना, सिर दर्द, शरीर टूटना, कमरदर्द, अत्यंत कमजोरी, व चक्कर आना यह सभी डेंगू के लक्षण हैँ

loading...

यह लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाए और इलाज कराएँ घर पर रहकर खुद डाक्टर ना बने। अपने डॉक्टर की सलाह जरुर लेँ जरुर ले।

डेंगू से बचने के उपाय 

जैसे ही डेंगू के लक्षण आपको प्रतीत हो तो तुरंत टेस्ट करा कर पता करे। कि यह डेंगू का बुखार है या नहीँ और अगर डेंगू का बुखार है तो तुरंत डॉक्टर से इलाज कराए।

तेज बुखार होने पर रोगी को तुरंत ठंडे पानी की पट्टी रखनी शुरु कर देनी चाहिए ठंडे पानी की पट्टी को 100° सेंटीग्रेड बुखार होने पर रख देना चाहिए। बुखार कोई भी हो ठंडे पानी की पट्टी बहुत फायदेमंद होती है

कौंच के सेवन से यौन शक्ति में सुधार होता है और वीर्य के अभाव से उत्‍पन्‍न नपुसंकता नष्‍ट होती है। इसके सेवन से यौन क्षमता बढ़ने से पुरुष देर तक यौन संबंध में संलग्‍न रहकर अधिक यौन आनंद प्राप्‍त कर सकता है। 20 से 30 ग्राम की मात्रा में कौंच के चूर्ण का सेवन कर दूध पीने से यौन शक्ति के साथ शारीरिक क्षमता भी बढ़ती है।

कौंच के सेवन से यौन शक्ति में सुधार होता है और वीर्य के अभाव से उत्‍पन्‍न नपुसंकता नष्‍ट होती है। इसके सेवन से यौन क्षमता बढ़ने से पुरुष देर तक यौन संबंध में संलग्‍न रहकर अधिक यौन आनंद प्राप्‍त कर सकता है। 20 से 30 ग्राम की मात्रा में कौंच के चूर्ण का सेवन कर दूध पीने से यौन शक्ति के साथ शारीरिक क्षमता भी बढ़ती है।

डेंगू बुखार होने पर रोगी की रक्त प्लेटलेट्स की संख्या घटने लगती है जो कि चिंता की बात होती है उस को बढ़ाने के लिए रोगी के ब्लड ग्रुप वाले किसी व्यक्ति के ब्लड से प्लेटलेट्स निकाल कर चढ़ाए जाते है।

डॉ नुस्खे अश्वगंधा के सेवन से वीर्य की गुणवत्ता बढ़ती है और वीर्य ज्यादा मात्रा में बनता है. जो लोग सम्भोग के दौरान जल्दी थक जाते हैं, यह उनके लिए भी एक बहुत हीं प्रभावशाली औषधी है.

डॉ नुस्खे अश्वगंधा के सेवन से वीर्य की गुणवत्ता बढ़ती है और वीर्य ज्यादा मात्रा में बनता है.
जो लोग सम्भोग के दौरान जल्दी थक जाते हैं, यह उनके लिए भी एक बहुत हीं प्रभावशाली औषधी है.

बुखार ठीक होने के बाद रोगी को गिलोय का रस देना चाहिए क्योंकि रोगी बहुत कमजोर हो जाता है इसको खिलाने से रोगी की कमजोरी बहुत जल्द दूर हो जाती है

मौसम में बदलाव डेंगू का कारण

मौसम में बदलाव होते ही डेंगू के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ने लगती है। डेंगू बुखार होने पर सफाई का ध्यान रखने की जरूरत होती है। इलाज में खून को बदलने की जरूरत आ सकती है। ये बुखार किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है लेकिन छोटे बच्चों और बुजुर्गों को ज्यादा देखभाल की जरूरत होती है।

फ्री आयुर्वेदिक उपाय फेसबुक पर पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके हमारे फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करें www.facebook.com/groups/jioayurveda

loading...

Loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top
Close