Loading...
Cancer Care

ये है वो बीमारी जिससे स्वर्गीय विनोद खन्ना की जान गयी.

मूत्राशय के कैंसर से कथित तौर पर मारे गए अभिनेता विनोद खन्ना को अक्सर कोशिकाओं में शुरू होता है जो मूत्राशय के अंदर की ओर होती हैं। यह स्थिति आमतौर पर वृद्ध वयस्कों को प्रभावित करती है और 40 साल से कम उम्र के लोगों में शायद ही कभी यह देखा जाता है।

Loading...
Loading...

वयोवृद्ध अभिनेता विनोद खन्ना की मृत्यु 70 वर्ष की थी। वह कथित रूप से उन्नत स्टेज मूत्राशय के कैंसर से पीड़ित थे। एचटी अपने पाठकों को सब कुछ बताता है जो स्थिति के बारे में पता करने के लिए है।

loading...

मूत्राशय का कैंसर क्या है?

एक प्रकार का कैंसर जो आपके मूत्राशय से शुरू होता है – आपके पैल्विक क्षेत्र में एक गुब्बारा आकार के अंग है जो मूत्र को संग्रहीत करता है। यह आम तौर पर बड़े वयस्कों को प्रभावित करता है, हालांकि यह किसी भी उम्र में हो सकता है।

loading...

नीम के तेल से अगर लिंग पर मसाज की जाती है तोह उस से लिंग में वृद्धि होती हैं अथवा इससे नपुंसकता और सिघ्र पतन जैसी समया का भी उपचार हो जाता हैं.

*चेतावनी के संकेत

मूत्र में रक्त – मूत्र उज्ज्वल लाल या कोला रंग में दिखाई दे सकता है; लगातार पेशाब आना; मूत्र त्याग करने में दर्द; पीठ या श्रोणि क्षेत्र में अस्पष्टीकृत दर्द

* कारण

यद्यपि कोई निश्चित कारण नहीं है, इस प्रकार के कैंसर धूम्रपान, परजीवी संक्रमण, रासायनिक एक्सपोजर, विकिरण (किसी भी तरह का) से जुड़ा हुआ है

*जोखिम के कारण

धूम्रपान : जब आप धूम्रपान करते हैं, तो आपका शरीर धूम्रपान में रसायनों की प्रक्रिया करता है और उनमें से कुछ आपके मूत्र में विसर्जित करता है। ये हानिकारक रसायनों आपके मूत्राशय के अस्तर को नुकसान पहुंचा सकते हैं, जिससे कैंसर का खतरा बढ़ जाता है

बढ़ती उम्र : जोखिम एक उम्र के रूप में बढ़ता है। मूत्राशय का कैंसर किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन यह शायद ही कभी 40 से कम उम्र के लोगों में पाया जाता है

रेस : गोरे अधिक जोखिम पर हैं

लिंग : महिलाओं की तुलना में पुरुषों की संभावना अधिक होती है

कुछ रसायनों का एक्सपोजर : मूत्राशय से हानिकारक रसायनों को छानने में मूत्राशय एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और उन्हें मूत्राशय में ले जाते हैं। कुछ रसायनों जैसे आर्सेनिक या रंजक, रबर, चमड़ा, वस्त्र और पेंट के उत्पादों के निर्माण में इस्तेमाल होने वाले जोखिम से जोखिम बढ़ सकता है

पिछला कैंसर उपचार : पिछले कैंसर के लिए श्रोणि के उद्देश्य से विकिरण प्राप्त करने वाले लोगों में वृद्धि का जोखिम बढ़ता है

क्रोनिक मूत्राशय की सूजन: गंभीर या दोहराया मूत्र संक्रमण या सूजन (cystitis) जोखिम को बढ़ाते हैं

कौंच के सेवन से यौन शक्ति में सुधार होता है और वीर्य के अभाव से उत्‍पन्‍न नपुसंकता नष्‍ट होती है। इसके सेवन से यौन क्षमता बढ़ने से पुरुष देर तक यौन संबंध में संलग्‍न रहकर अधिक यौन आनंद प्राप्‍त कर सकता है। 20 से 30 ग्राम की मात्रा में कौंच के चूर्ण का सेवन कर दूध पीने से यौन शक्ति के साथ शारीरिक क्षमता भी बढ़ती है।

कौंच के सेवन से यौन शक्ति में सुधार होता है और वीर्य के अभाव से उत्‍पन्‍न नपुसंकता नष्‍ट होती है। इसके सेवन से यौन क्षमता बढ़ने से पुरुष देर तक यौन संबंध में संलग्‍न रहकर अधिक यौन आनंद प्राप्‍त कर सकता है। 20 से 30 ग्राम की मात्रा में कौंच के चूर्ण का सेवन कर दूध पीने से यौन शक्ति के साथ शारीरिक क्षमता भी बढ़ती है।

पारिवारिक इतिहास : यदि आपके पास मूत्राशय के कैंसर हैं, तो आपको इसे फिर से प्राप्त करने की अधिक संभावना है। अगर आपके एक या अधिक तत्काल रिश्तेदारों में मूत्राशय के कैंसर का इतिहास होता है, तो आपको रोग का खतरा बढ़ सकता है

* निदान

सीटी स्कैन; चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई); बोन स्कैन; छाती का एक्स – रे

* कैंसर के चरणों

चरण I मूत्राशय की आंतरिक परत में कैंसर लेकिन पेशी मूत्राशय की दीवार पर हमला नहीं किया है

चरण द्वितीय कैंसर ने मूत्राशय की दीवार पर आक्रमण किया है लेकिन अभी भी मूत्राशय तक ही सीमित है

चरण III कैंसर की कोशिकाएं मूत्राशय की दीवार के माध्यम से आसपास के ऊतकों तक फैलती हैं

स्टेज IV कैंसर की कोशिकाएँ लिम्फ नोड्स और अन्य अंगों में फैलती हैं, जैसे आपकी हड्डियां, यकृत या फेफड़े

डॉ. नुस्खे शक्तिवर्धक योग पाउडर शक्तिवर्धक स्वप्नदोष और धातु कमज़ोरी में बहुत लाभकारी हैं। इस से वीर्य गाढ़ा हो स्तम्भन शक्ति बढ़ जाती हैं। जिन युवको को धातु की कमज़ोरी हो या पेशाब में धात गिरती हो तो उनको हर रोज़ एक चममच डॉ. नुस्खे शक्तिवर्धक योग और गुड़ का एक चम्मच रात्रि को सोने से पहले गुनगुने दूध के साथ ज़रूर सेवन करना चाहिए।

डॉ. नुस्खे शक्तिवर्धक योग पाउडर शक्तिवर्धक स्वप्नदोष और धातु कमज़ोरी में बहुत लाभकारी हैं। इस से वीर्य गाढ़ा हो स्तम्भन शक्ति बढ़ जाती हैं। जिन युवको को धातु की कमज़ोरी हो या पेशाब में धात गिरती हो तो उनको हर रोज़ एक चममच डॉ. नुस्खे शक्तिवर्धक योग और गुड़ का एक चम्मच रात्रि को सोने से पहले गुनगुने दूध के साथ ज़रूर सेवन करना चाहिए।

* उपचार

सर्जरी; कीमोथेरेपी, इम्यूनोथेरेपी, विकिरण चिकित्सा

loading...

Loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top
Close