पुराने जमाने में व्रत रखने वाले लोग सिर्फ एक वक्त ही आहार का सेवन किया करते थे जिसमें दूध, फल या सामक के चावल से बनी खिचड़ी या खीर प्रमुख थी। इस समय बाजार में व्रत और उपवास के लिए भी कई तरह के पैक्ड फूड आ रहे हैं। लेकिन इनकी शुद्धता पर संदेह होना लाजमी है। इसलिए नवरात्र में व्रत के दौरान घर पर बने खाद्य पदार्थों का सेवन ज्यादा अच्छा होता है जो कि शुद्ध तो होता ही है साथ ही इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है। तो आखिर जानते हैं क्‍या हैं नवरात्र के लिए दस आहार-

  • व्रत के दौरान साबूदाने का कई प्रकार से प्रयोग किया जाता है। साबूदाने को दूध में उबालकर पिया जाता है। साबूदाने की खीर भी व्रत में फायदेमंद होती है। इसके अलावा साबूदाने का पापड़ भी बनाया जाता है।
  • व्रत के दौरान ड्राइफूड्स का सेवन करने से शरीर में ऊर्जा बनी रहती है। ड्राईफूड्स जैसे काजू, बादाम, किशमिश, पिस्ता, अखरोट और बादाम गिरी आदि का सेवन किया जाता है जो कि व्रत के दौरान शरीर के फायदेमंद होता है। व्रत में ड्राईफ्रूट, मसाले और मूँगफली की गिरी के साथ बूरा मिलाकर पैक तैयार करके सेवन किया जा सकता है।
  • व्रत के दौरान आलू का अधिक मात्रा में सेवन किया जाता है। आलू को उबाल कर खाने से शरीर से अतिरिक्त चर्बी समाप्त होती है जिससे मोटापा कम होता है। इसके अलावा आलू का चिप्स और पापड भी व्रत के दौरान खाया जाता है।
  • व्रत में दूध और दूध से बने हुए अन्य पदार्थ जैसे – पनीर, लस्सी और मट्ठा का अधिक मात्रा में सेवन किया जाता है। दूध से शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैलोरी मिलती है जिससे व्रत के दौरान खाना न खाने के दौरान भी शरीर की एनर्जी समाप्त नहीं होती। दूध और उससे बने अन्य खाद्य पदार्थों में फैट होता है जिससे भूख पर काफी हद तक नियंत्रण पाया जा सकता है।
  • व्रत में दही को कई प्रकार से खाया जा सकता है। फल और फलाहार में मिलाकर भी दही का सेवन किया जाता है। दूध की अपेक्षा दही में प्रोटीन, लैक्टोज, कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस आदि कई विटामिन्स होते हैं। व्रत में दही को कई प्रकार से खाया जा सकता है। फल और फलाहार में मिलाकर भी दही का सेवन किया जाता है।
  • व्रत के दौरान विभिन्न प्रकार के फल जैसे – सेब, संतरा, अंगूर, केला आदि का सेवन किया जा सकता है। कोशिश यह होनी चाहिए कि आप जिस फल का सेवन करें वे ताजें हों जिससे उनका आपके स्‍वास्‍थ्‍य पर खराब असर ना हो।
  • व्रत के दौरान कुट्टू के आटे से बने खाद्य पदार्थों का सेवन किया जा सकता है। सिंघाडे़ या कुट्टू के आटे की पकौड़ी, रोटी आदि बनाकर खाया जा सकता है। कुट्टू के आटे से कुट्टू बॉल्‍स बनाने का तरीका जो खाने के साथ-साथ व्रत के दौरान सबसे अधिक पसंद किया जाने वाला व्‍यंजन है।
  • व्रत में विभिन्न फलों से बने जूस का सेवन किया जाता है। जूस पीने से शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैलोरी मिलती है। जूस पीने शरीर में पानी की कमी नहीं होती और डिहाइड्रेशन से बचा जा सकता है।
  • व्रत के दौरान भूख लगना स्वाभाविक है। कुछ समय के अंतराल पर चाय पीने से भूख पर नियंत्रण पाया जा सकता है। व्रत के दौरान ग्रीन टी का सेवन भी फायदेमंद होता है। चाय आपको तरो-ताजा तो रखती है साथ ही बीमारियों से भी बचाती है। व्रत के दौरान ग्रीन टी का सेवन भी फायदेमंद होता है।
  • व्रत में विभिन्न प्रकार के मिठाइयों का सेवन किया जा सकता है। व्रत के खाने से पहले और खाने के बाद मिठाई खाया जा सकता है। व्रत में भूख लगने पर भी मिठाई खाकर कुछ हद तक भूख को शांत किया जा सकता है।

व्रत में एक साथ खाने की बजाय दो-तीन घंटे के अंतराल पर खाते रहना चाहिए। व्रत के दौरान अधिक तले हुए खाद्य-पदार्थों के सेवन से बचें। क्योंपकि इसका साइड इफेक्टर आपके शरीर को नुकसान पहुंचाता है और आप बीमार हो सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here